मंगलवार, 18 मई 2010

एक प्रश्न चिन्ह..................

               
                           
                         चतुर्दिक
                         भ्रष्टाचार  एवं
                         आतंक का साम्राज्य ,
                         धार्मिक एवं सामप्रदायिक
                         झगडे ,
                         निरंतर उग्र होती 
                         नश्ल भेद की 
                         भावनाएं ,
                         आर्थिक एवं 
                         सामाजिक असमानताएं ,
                         गरीबी एवं 
                         कुपोषण की गर्त में
                         डूबती हुई दुनिया ,
                         मानवीय सभ्यता एवं
                         विकास गाथा में
                         जड़ देती है
                         एक प्रश्न चिन्ह ,
                         क्या सचमुच
                         मानव  चाँद पर          
                         पहुँच गया है ?

6 टिप्‍पणियां:

  1. क्या सचमुच
    मानव चाँद पर
    पहुँच गया है ?
    मैं बताऊं?
    हां।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Vicharneey sawaal. Yahee vishamta to aslee pareshaanee hai.

    Bhakuni ji, "मेरी ब्लॉग सूची में हैं....." ko kaise apne blogs main jodun ? kripaya bataayen.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपनिषद् कहते हैं केवल भौतिक उन्नति या केवल अध्यात्मिक उन्नति जीवन का ध्येय नहीं. इन दोनों में तालमेल होना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या सचमुच
    मानव चाँद पर
    पहुँच गया है ?
    ...Bhautikta ke daur mein kaudhta vicharniya Saawal ...
    Saarthak aur chintansheel rachna ke liye aabhar

    उत्तर देंहटाएं